shrikrishna

श्रीकृष्ण सुदामा मिलन प्रसंग

Posted on

भगवान श्रीकृष्ण सुदामा के चरण  धो रहे :
भगवान श्रीकृष्ण सुदामा के चरण धो रहे :

एक दिन सुदामा अपने मित्र श्री कृष्ण कि ओर चल पड़ा| उसकी पत्नी ने कुछ चावल, तरचौली उसको एक पोटली में बांध दिए| सुदामा मन में विचार करता कि मित्र को कैसे मिलेगा ? क्या कहेगा ? द्वारिका नगरी में पहुंच कर वह सुदामा ने डरते और कांपते हुए द्वारपाल को कहा’मैंने राजा जी को मिलना है|’

द्वारपाल-‘क्या नाम बताऊं जा कर?’

सुदामा ब्राह्मण आया है, आपके बचपन का मित्र| द्वारपाल यह संदेश लेकर अंदर चला गया| जब उसने श्री कृष्ण जी को संदेश दिया तो वह उसी पल सिंघासन से उठ कर नंगे पांव बाहर को भागे तथा बाहर आकर सुदामा को गले लगा लिया| कुशलता पूछी तथा बड़े आदर और प्रेम से उसे अपने सिंघासन पर बिठाया और उसके पैर धोए| पास बिठा कर व्यंग्य के लहजे में कहा “ मेरे लिए क्या लाया हैं ?”

यह कह कर श्री कृष्ण ने सुदामा के वस्त्रों से बंधी हुई पोटली खोल ली और फक्के मार कर चबाने लगे| चबाते हुए वर देते गए तथा कहते रहे, “वाह क्या ! स्वादिस्ट हैं | “

सुदामा प्रसन्न हो गया| श्री कृष्ण ने मित्र को अपने पास रखा तथा खूब सेवा की गई |कुछ दिनों बाद सुदामा वापिस घर को चल पड़ा| मार्ग में सोचता रहा कि घर जाकर अपनी पत्नी को क्या बताऊंगा ? मित्र से क्या मांग कर लाया हूं|

सुदामा गोकुल पहुंचा| जब वह अपने मुहल्ले में पहुंचा तो उसे अपना घर ही न मिला| वह वहां खड़ा हो कर पूछना ही चाहता था कि इतने में उसका लड़का आ गया| उसने नए वस्त्र पहने हुए थे|वो कहने लगा ‘पिताजी !’ द्वारिका से जिन आदमियों को आप ने भेजा था, वह यह महल बना गए हैं, सामान भी छोड़ गए हैं तथा बहुत सारे रुपये दे गए हैं| माता जी आपका ही इंतजार कर रहे हैं| आप आकर देखें कितना सुंदर महल बना है|’

वह समझ गया कि यह सब भगवान श्री कृष्ण की लीला है| श्री कृष्ण ने मुझे वहां अपने पास द्वारिका में रखा और मेरे पीछे से यहां पर यह लीला रचते रहे तथा मुझे बिल्कुल भी मालूम नहीं पड़ने दिया| | भगवान श्री कृष्ण की लीला देख कर सुदामा बहुत ही प्रसन्न था|

सुदामा की कंगालियत…

Posted on

श्रीकृष्ण सुदामा मिलन :-
श्रीकृष्ण सुदामा मिलन :-

सुदामा श्री कृष्ण जी के बालसखा हुए हैं|

सुदामा और कृष्ण जी का आपस में अत्यन्त प्रेम था, वह सदा ही इकट्ठे रहते| जिस समय उनका गुरु उनको किसी कार्य के लिए भेजता तो वे इकट्ठे चले जाते, बेशक नगर में जाना हो या किसी जंगल में लकड़ी लेने| दोनों के प्रेम की बहुत चर्चा थी|

सुदामा जब पढ़ने के लिए जाता था तो उनकी माता उनके वस्त्र के पलड़े में थोड़े चावल, तरचौली  बांध देती थी| सुदामा उनको खा लेता था, ऐसा ही होता रहा|

एक दिन गुरु जी ने श्री कृष्ण और सुदामा दोनों को जंगल की तरफ लकड़ियां लेने भेजा| जंगल में गए तो वर्षा शुरू हो गई| वे एक वृक्ष के नीचे बैठ गए| वह श्री कृष्ण से छिपा कर चने खाने लगा| उसे इस तरह देख कर श्री कृष्ण जी ने पूछा, “मित्र ! तुम क्या खा रहे हो ?”

सुदामा से उस समय झूठ बोला गया| उसने कहा ”खा तो कुछ नहीं रहा, मित्र !”

उस समय सहज स्वभाव ही श्री कृष्ण जी के मुख से यह शब्द निकल गया -‘सुदामा एक मुठ्ठी चने के लिए अपने मित्र से झूठ बोल दिया|’

यह कहने की देर थी कि सुदामा के गले दरिद्र और कंगाली पड़ गई, कंगाल तो वह पहले ही था| मगर अब तो श्री कृष्ण ने वचन कर दिया था| यह वचन जानबूझ कर नहीं सहज स्वभाव ही श्री कृष्ण के मुख से निकल गया, पर सत्य हुआ| सुदामा और अधिक कंगाल हो गया|