सत्य का प्रतीक

जीवन-मुक्ति के मार्ग

Posted on

jivan mukta

ध्यान एवं योग से मनुष्य की जीवन मुक्ति का मार्ग प्रशस्त होता है, अपने “कर्ता” की खोज में मनुष्य अनेक मार्गों से जाते हैं, क्रियाशील व्यक्ति कर्म मार्ग से उनका दर्शन करता है, अध्यात्मवादी व्यक्ति भक्तिमार्ग से उसे प्राप्त करता है, जहाँ उसे अपने आराध्य के प्रति अनन्य प्रेमा और भक्ति की अनुभूति होती है, बुद्धिमान मनुष्य ज्ञान मार्ग से उसका अनुसरण करता है जहाँ ज्ञान से उसके (आत्मा के) अस्तित्व का बोध होता है, ध्यानी पुरुष परमेश्वर की प्राप्ति के लिए (आत्मा को जानने के लिए), “योग मार्ग” का अवलंबन करते हैं जहाँ वे अपने मन को वश में करने से असीम शांति व दिव्यता का अनुभव करते हैं।
जिस प्रकार वायु झील के पानी के उपरी सतह को चंचल कर देती है और उसमें प्रतिबिंबित छवि के रूप को नष्ट कर देती हैं, उसी प्रकार चित्त की वृत्तियाँ मन में खलल पैदा करके उसमें निहित आत्मा एवं परमात्मा में दूरी पैदा करती हैं,
जिस प्रकार झील का स्थिर पानी अपने चतुर्गिक सौंदर्य को प्रतिबिंबित करता है उसी प्रकार योग के द्वारा जब मन स्थिर (समाधिस्थ) होता है, उसमे तब आत्म-सौंदर्य प्रतिबिंबित दिखाई देता है।
जीवन मुक्ति के योग मार्ग पर भले ही मनुष्य किसी भी मार्गको अपनाएगा परन्तु स्पष्टतया योग-पथ पर चलने पर स्वतः ही उसमें प्रगति के चिन्ह परिलक्षित होंगे, जिनमें उत्तम स्वास्थ्य, शारीरिक हल्केपन का ज्ञान, स्थिरता, बदन की निर्मलता स्वर की कोमलता, शरीर-गंध की मधुरता, एवं लोभ मुक्ति की अनुभूतियों का दर्शन होगा।
निष्कर्षतः योग साधना के द्वारा योगी का मन स्थिर व शांत होता है, वह विनयशीलता एवं सत्य का प्रतीक होता है, परमात्मा में शरण पाकर वह अपने सारे कर्म परमात्मा को अर्पित कर देता है और वह स्वयं को कर्म बंधन से मुक्त कर देता है। एवं जीवन मुक्त होकर अनंत साधना एवं परमानन्द की ओर अग्रसर हो जाता है।