sadhana

जप के 20 नियम – स्वामी शिवानन्द सरस्वती

Posted on Updated on

स्वामी शिवानन्द सरस्वतीजी – जप के 20 नियम …

जप के नियम,swami shivanand,स्वामी शिवानन्द सरस्वती
Swami Shivanandji Saraswati

जो इस प्रकार हैं ;

  1. जहाँ तक सम्भव हो वहाँ तक गुरू द्वारा प्राप्त मंत्र की अथवा किसी भी मंत्र की अथवा परमात्मा के किसी भी एक नाम की 1 से 200 माला जप करो।
  2. रूद्राक्ष अथवा तुलसी की माला का उपयोग करो।
  3. माला फिराने के लिए दाएँ हाथ के अँगूठे और बिचली (मध्यमा) या अनामिका उँगली का ही उपयोग करो।
  4. माला नाभि के नीचे नहीं लटकनी चाहिए। मालायुक्त दायाँ हाथ हृदय के पास अथवा नाक के पास रखो।

 




View More Here

स्मृतिवर्धक प्राणायम

Posted on Updated on

4e330b45fe19e4b3aa03b3fbef1d3ae2_t

 

बायें पैर की एडी गुदा द्वार पे रख दें | जैसे सिद्ध आसन में बैठते है | दायने पाँव की एडी बायें पैर की जांघो पर लगा दें और  ठोडी छाती के तरफ कर दें | इसको जालंदर बंद बोलते है | इससे स्मृति गजब की बढती है |आँखे बंद कर दे … गहरा श्वास लें …. उसको रेचक बोलते है | फिर रोके … उसको कुंभक बोलते है और फिर पहले तो श्वास लें …छोड़े … छोड़ना रेचक है… लेना पूरक है … रोकना कुंभक है | तो रेचक, कुंभक, पूरक, कुंभक, रेचक अभ्यास करें और ये अभ्यास १५ – २० – २५ – ३० मिनट… एक घंटे तक बढ़ा सकते है आप | गजब की स्मृति बढ़ेगी और तन के कई रोग भी मिटेंगे और मानसिक तनाव भाग जायेगें |